June 22, 2024

संवाददाता।
कानपुर, भारत।
एक चौंकाने वाले खुलासे में, डाबर रियल जूस कंपनी के द्वारा किया गया एक बड़ा घोटाला सामने आया है, जिससे उपभोक्ताओं में आक्रोश है और कॉर्पोरेट नैतिकता के बारे में गंभीर सवाल खड़े हो गए हैं। लोकप्रिय जूस ब्रांड पर अपने जूस मल्टीपैक के भीतर खाली डिब्बे शामिल करके अपने ग्राहकों को धोखा देने का मामला सामने आया है, जिससे प्रभावी रूप से खरीदारों को धोखा दिया जा रहा है। विवाद तब खड़ा हुआ जब कानपुर में एक उपभोक्ता को छह जूस पाउच के पैक के अंदर एक बड़ा खाली डिब्बा मिला। पैकेज खोलने पर, विज्ञापन के अनुसार जूस के छह पाउच तो मिले लेकिन, उपभोक्ता को उन बॉक्स के साथ साथ एक बड़ा खाली डिब्बा मिला जो की स्वयं 4 जूस के डिब्बो के बराबर था, जो कि भ्रामक रूप से बड़ा बॉक्स था। धोखाधड़ी के इस ज़बरदस्त कृत्य ने ग्राहको के मन मे व्यापक गुस्से और निराशा को जन्म दिया है, क्योंकि उपभोक्ता गुणवत्ता और ईमानदारी के लिए डाबर जैसे विश्वसनीय ब्रांडों पर भरोसा करते थे। और वही डाबर कंपनी ग्राहको के साथ इतना बड़ा छल कर रही है। यह घटना अकेली नहीं है. देश के अलग-अलग हिस्सों से ऐसी खबरें सामने आयी हैं, जिनमें बताया जा रहा है कि बहुत से ग्राहक अनजाने में इस घोटाले का शिकार हो गए हैं। भ्रामक व्यवहार न केवल उपभोक्ता के विश्वास को कमजोर करता है बल्कि दुकानदारो के बारे में भी चिंता पैदा करता है। उपभोक्ता डाबर रियल जूस कंपनी के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। कंपनी को जवाबदेह ठहराने और उपभोक्ताओं के आगे शोषण को रोकने के लिए नियामक अधिकारियों द्वारा गहन जांच की मांग की जा रही है। कानूनी विशेषज्ञों का सुझाव है कि इससे कंपनी को भारी जुर्माना भरना पड़ सकता है। यह घोटाला डाबर की प्रतिष्ठा के लिए एक बड़ा झटका है, एक ऐसा ब्रांड जो लंबे समय से भारतीय बाजार में विश्वास और गुणवत्ता के साथ जुड़ा हुआ है। जैसे-जैसे जांच सामने आ रही है, उपभोक्ता और निगरानी संगठन बारीकी से नजर रख रहे हैं और पारदर्शिता और न्याय की मांग कर रहे हैं।

कंपनी के अनैतिक व्यवहार की निंदा करने वाले कई पोस्ट और ट्वीट के साथ सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया तेज और गंभीर रही है। #DaburFraud और #JuiceScam जैसे हैशटैग ट्रेंड कर रहे हैं, जो जनता के आक्रोश और निराशा को दर्शाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *