?> पनकी क्षेत्र के मुद्दों को लेकर भाजपा पार्षद ने कानपुर केडीए मुख्यालय पर विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व किया » Azad Samachar

पनकी क्षेत्र के मुद्दों को लेकर भाजपा पार्षद ने कानपुर केडीए मुख्यालय पर विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व किया

कानपुर। भाजपा पार्षद अनुप्रिया दुबे ने स्थानीय निवासियों के साथ, पनकी क्षेत्र में लगातार समस्याओं को लेकर कानपुर विकास प्राधिकरण (केडीए) मुख्यालय पर एक महत्वपूर्ण विरोध प्रदर्शन किया। सोमवार को हुए विरोध प्रदर्शन का उद्देश्य उफनते सीवर नालों और विभिन्न बुनियादी ढांचा परियोजनाओं की अधूरी हैंडओवर प्रक्रिया पर ध्यान आकर्षित करना था।

विरोध की पृष्ठभूमि

विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व पांकी में वार्ड 50 की पार्षद अनुप्रिया दुबे ने किया, उनके साथ पूर्व पार्षद अशोक दुबे और दर्जनों स्थानीय निवासी भी शामिल थे. प्रदर्शनकारी केडीए उपाध्यक्ष मदन सिंह गब्र्याल के कार्यालय के बाहर एकत्र हुए और “केडीए वीसी मुर्दाबाद” और “योगी-मोदी जिंदाबाद” जैसे नारे लगाए। प्रदर्शन से मुख्यालय के सुरक्षाकर्मियों में हड़कंप मच गया। प्रदर्शनकारियों द्वारा उठाए गए प्रमुख मुद्दे प्राथमिक शिकायतों में शामिल हैं

ओवरफ्लो हो रही सीवर नालियां: गंगागंज कॉलोनी में सीवर नालियां ओवरफ्लो हो रही हैं, जिससे निवासियों को काफी असुविधा हो रही है। केडीए द्वारा किए गए कई सर्वेक्षणों के बावजूद, हैंडओवर प्रक्रिया अधूरी है, जिससे नगर निगम इस मुद्दे का समाधान नहीं कर पा रहा है।

अधूरी बुनियादी ढांचा परियोजनाएं: शताब्दी नगर योजना में, सड़क, सीवरेज और पेयजल योजनाओं जैसी आवश्यक सेवाएं नगर निगम और जलकल को नहीं सौंपी गई हैं, जिससे क्षेत्र उपेक्षा की स्थिति में है।

केडीए अधिकारियों की प्रतिक्रिया

केडीए के अतिरिक्त सचिव गुडाकेश शर्मा ने प्रदर्शनकारियों से मुलाकात की और उनकी चिंताओं को सुना। उन्होंने उन्हें आश्वासन दिया कि उनके मुद्दों को जल्द ही हल किया जाएगा, साथ ही उफनती सीवर नालियों और अधूरी हैंडओवर प्रक्रिया को संबोधित करने के लिए कार्रवाई का वादा किया।

भविष्य के कार्य और संकल्प

यह विरोध तीसरी बार है जब स्थानीय निवासियों ने केडीए के खिलाफ प्रदर्शन किया है, जो अनसुलझे नागरिक मुद्दों पर बढ़ती निराशा को दर्शाता है। इन समस्याओं के समाधान के लिए केडीए की प्रतिबद्धता पर समुदाय द्वारा बारीकी से नजर रखी जाएगी। पनकी में रहने की स्थिति में सुधार लाने और स्थानीय प्राधिकारी में विश्वास बहाल करने के लिए प्रभावी और समय पर कार्रवाई आवश्यक है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *