June 22, 2024

कानपुर। एक महत्वपूर्ण घटनाक्रम में गंगा में गिरने वाले एशिया के सबसे बड़े नाले सीसामऊ नाले के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार कंपनी के खिलाफ ग्वालटोली थाने में गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। यह कार्रवाई जल निगम की गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई की जांच रिपोर्ट के बाद हुई है।

सीसामऊ नाली मुद्दे की पृष्ठभूमि

सीसामऊ नाला, जो पहले बड़ी मात्रा में अनुपचारित अपशिष्ट जल को गंगा में छोड़ने के लिए जाना जाता था, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने सेल्फी के साथ इसे स्वच्छता के प्रतीक में बदल दिया था। हालाँकि, हाल ही में कानपुर रिवर मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड की लापरवाही ने नाले को एक बार फिर नदी को प्रदूषित कर दिया है।

गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई द्वारा जांच और निष्कर्ष

एसीपी कर्नलगंज महेश कुमार ने खुलासा किया कि कंपनी ने बार-बार दी गई चेतावनियों की अनदेखी की, जिसके कारण अनुपचारित सीवेज गंगा में बह रहा है। यह जांच सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो से शुरू हुई, जिसमें नाले से गंदा पानी निकलता दिख रहा है। इंजीनियर विपिन कुमार पाल और प्रोजेक्ट इंजीनियर वैभव श्रीवास्तव सहित गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के अधिकारियों ने सीसामऊ सीवेज पंपिंग स्टेशन को ठीक से बनाए रखने में कंपनी की विफलता की पुष्टि की।

रखरखाव कंपनी के खिलाफ की गई कानूनी कार्रवाई

जांच के आधार पर, ग्वालटोली पुलिस ने कानपुर रिवर मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड और निदेशक प्रकाश शुक्ला, प्रभारी अनिर्बान मुखर्जी और प्लांट प्रभारी कुलदीप सिंह सहित प्रमुख कर्मियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की है। आरोपों में पर्यावरणीय लापरवाही और अनुबंध के उल्लंघन से संबंधित गंभीर धाराएं शामिल हैं।

गंगा की स्वच्छता और भविष्य के उपायों पर प्रभाव

गंगा का निरंतर प्रदूषण नदी के पारिस्थितिकी तंत्र और सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एक महत्वपूर्ण खतरा पैदा करता है। अधिकारी अब कड़ी निगरानी पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं और यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि जिम्मेदार पक्षों को कानूनी परिणामों का सामना करना पड़े। जल निगम और अन्य पर्यावरण एजेंसियों से अपेक्षा की जाती है कि वे भविष्य में रोकथाम के लिए सख्त नियंत्रण लागू करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *