?> खबर का असर अंत्योदय कार्ड के फर्जीवाड़े में हुआ सुधार  » Azad Samachar

खबर का असर अंत्योदय कार्ड के फर्जीवाड़े में हुआ सुधार 

संवाददाता।
कानपुर।
आज़ाद समाचार ने गरीबो के साथ हो रहे अत्याचारों और फर्जीवाड़े के खिलाफ एक खबर प्रकाशित करी थी जिसमे बताया गया था कि  जो गरीबी रेखा में और उससे नीचे का तबका है उसको शासन की तरफ से प्रति व्यक्ति को जीवन यापन के लिए इतना राशन उपलब्ध कराया जाता है कि वो महीने भर के दैनिक आहार के लिए पर्याप्त होता है ताकि वो जीवन की जरूरतों और आने वाली समस्याओं के लिए संघर्ष कर सके। जिसके लिए खाद्य विभाग है जिसका कार्य है गरीब पीड़ित अंत्योदय राशन कार्ड धारकों की समयानुसार समस्याएं को सुनना समझना और उसका निवारण करना जिसमे राशन वितरण से लेकर प्रपत्र संबंधित समस्यायों होती है। लेकिन कोपरगंज खाद्य विभाग कार्यालय की इंस्पेक्टर संगीता सिंह लापता हैं। उनके पास आचार्य नगर सहित दो जगह का चार्ज है। गरीब पीड़ित राशनकार्ड धारक भटकते रहते हैं, ऑफिस में कोई सुनने वाला नहीं। इन गरीबो को बहुत सी कठनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। बुजुर्ग बेबस महिला इशरत जहां अंत्योदय कार्ड दिखाते हुए बताया था कि हमारे पति किराए का बैटरी रिक्शा चलाकर छह बेटियों का खर्चा चलाते हैं। लेकिन कोटेदार सुरेंद्र कुमार गुप्ता दो महीने से राशन नहीं दे रहे। पूछने पर कहते हैं की कार्ड कैंसल कर दिया गया है। वही गरीब विकलांग को डीएसओ कार्यालय से लेकर क्षेत्रीय कार्यालय के बीच साल भर टरकाया जाता रहा था। विश्ववार्ता के जानकारी करने पर पता चला था कि दलालों ने फर्जीवाड़ा करके उनके कार्ड का डुप्लीकेट बनवा लिया। जिससे ओरिजनल कैंसिल हो गया। इतना बडा फर्जीवाड़ा हो गया और अब गरीब की कोई सुनने वाला नहीं। इस खबर के प्रकाशन के बाद प्रशासन ने खबर को प्रथमिकता देते हुए गरीब महिला के कार्ड से फ़र्ज़ी कार्ड बनवाकर असली कार्ड को कैंसिल करा दिया गया था तो अधिकारियों ने महिला की समस्या समझते हुए डब्लिकेट कार्ड को कैंसिल करा और महिला का राशन कार्ड बना दिया है। महिला का राशन कार्ड संख्या 116420517261 को फिर से महिला को जारी कर दिया गया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *