June 22, 2024

भाजपा नेता ने किसान की करोड़ों रुपये की प्राइम लोकेशन साढ़े छह बीघा जमीन हड़पी।

संवाददाता।
कानपुर। नगर के चकेरी गांव में रहने वाले बाबू सिंह यादव (50 वर्ष) किसान थे। उनके भतीजे धर्मेंद्र और अरविंद यादव ने बताया कि अहिरवा के मौजा में उनके पास प्राइम लोकेशन पर साढ़े छह बीघा जमीन थी। जिसकी कीमत करोड़ों रुपए है। 18 मार्च, 2023 को चकेरी के भाजपा नेता आशु उर्फ प्रिय रंजन दिवाकर का चाचा से इस जमीन का 6.5 करोड़ रुपए में सौदा हुआ था। इसके बाद आशु ने उन्हें एक होटल में बुलाकर उनकी पूरी जमीन की लिखा-पढ़ी करा ली। धर्मेंद्र और अरविंद यादव ने बताया कि उसने साढ़े छह करोड़ का बोगस चेक दिया था। बाद में पुलिस में शिकायत के डर से नेता के ही गुर्गों ने उसे भी छीन लिया। परिवार के लोगों ने इस बात को लेकर हंगामा किया, तो सात लाख देकर मुंह बंद रखने को कहा। धमकी दी कि ज्यादा बोले तो पूरे परिवार को मरवा दूंगा। चाचा ने बीते छह महीने से अपनी जमीन के रुपए पाने के लिए थानेदार से लेकर डीसीपी और पुलिस कमिश्नर दफ्तर के चक्कर काटे,, लेकिन कहीं सुनवाई नहीं हुई। किसान ने जो कुछ भी पत्र में लिखा है वो इस प्रकार है माननीय योगी सरकार हो सके, तो बच्चों को न्याय मिले। आपसे मेरी शिकायत है कि आपके राज्य में आपकी ही पार्टी का सदस्य आपका ही कानून तोड़ रहा है। आपकी केंद्र सरकार ने कानून लागू किया था कि 20,000 से ऊपर का कोई भी लेन-देन रजिस्ट्री से होगा। मुझे छह करोड़ 29 लाख का चेक देकर मेरी साढ़े छह बीघा जमीन ले ली गई। चेक लोकल था। और क्या लिखूं? लिखने का तो बहुत कुछ है। जीने का मतलब नहीं बचा। सारे फोटो फोन में हैं। आत्महत्या के जिम्मेदार प्रियरंजन दिवाकर, बबलू यादव हैं। हो सके तो बच्चों को न्याय मिले। छोटू बाय। (छोटू बाबू सिंह की छोटी बेटी का नाम है।) मृतक किसान की पत्नी बिटान की तहरीर पर चकेरी पुलिस ने शनिवार देर रात आशु दिवाकर, बाबू सिंह यादव के भतीजे जितेंद्र, जितेंद्र के साढ़ू बबलू, राहुल जैन, मधुर पांडेय और शिवम चौहान को नामजद किया है। पूरे मामले में कोई भी जिम्मेदार अफसर बयान देने से बच रहा है। अफसरों का कहना है कि मामले की जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी। मृतक किसान की बेटी काजल ने बताया, ”माफियाओं ने जमीन हड़पने के बाद रातों-रात हाउसिंग सोसाइटी बसा दी। दो दिन पहले ही पापा अपनी जमीन पर पहुंचे, तो उनके होश उड़ गए। आरोपी भाजपा नेता और उसके साथी प्लाटिंग करा रहे थे। भाजपा नेता और बिल्डरों ने उन्हें गाली-गलौज करके खदेड़ दिया।” बेटी ने बताया कि धमकी से पापा को इतना गहरा सदमा लगा कि डिप्रेशन में चले गए। इसके बाद उन्होंने शनिवार को घर से 50 मीटर की दूरी पर उन्होंने ट्रेन के आगे कूदकर खुदकुशी कर ली। स्थानीय लोगों ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच कर हम लोगों को जानकारी दी। फिर हम लोगों ने मौके पर पहुंचकर पापा की शिनाख्त की। परिजनों ने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा नेता के साथ इस घटना में एक वकील भी शामिल है। इस कारण पुलिस मामले में बैकफुट पर है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related News