?> लखनऊ सुपर जाइन्टंस और इकाना को शमार जोसेफ की वीरता का इंतजार है » Azad Samachar

लखनऊ सुपर जाइन्टंस और इकाना को शमार जोसेफ की वीरता का इंतजार है

कानपुर। इंडियन प्रीमियर लीग में ल्यूक सुपर जायंट्स के लिए स्टार आकर्षण के तौर पर देखा जा रहा है, तो वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज शमार जोसेफ को भी उससे पीछे नही रखा जा सकता है। कैरेबियाई तेज गेंदबाज शमार जोसेफ 3 करोड़ रुपये की भारी रकम पर फ्रेंचाइजी में शामिल हुए, जिससे एलएसजी की गेंदबाजी लाइनअप में गहराई और मारक क्षमता जुड़ गई। शमार जोसेफ इस आईपीएल सीज़न के लिए सबसे चर्चित क्रिकेटर बनकर उभरे हैं। हालांकि 24 वर्षीय खिलाड़ी को अभी तक एलएसजी ने किसी भी मैच में आजमाया नही है लेकिन सम्भाोवना व्य।क्त  की जा रही है कि रविवार को गुजरात टायटन्सल के खिलाफ उनकी धारदार गेंदबाजी देखने को मिल सके। शमार जोसेफ रविवार को इकाना में मेहमान गुजरात टायटन्सी के खिलाफ टीम के पहले मैच में अपना आईपीएल डेब्यू करने के लिए तैयार बेठे हैं। इस दुबले-पतले तेज गेंदबाज ने बहुप्रतीक्षित टूर्नामेंट की तैयारी के लिए लखनऊ स्थित फ्रेंचाइजी के साथ अटल बिहारी वाजपेयी एकाना क्रिकेट स्टेडियम में अपना प्रशिक्षण शुरू किया। वह रविवार को अपने घरेलू प्रशंसकों के सामने पहली बार अपने कौशल का प्रदर्शन कर सकते हैं। जोसेफ, कायले मेयर्स और निकोलस पूरण के बाद एलएसजी का प्रतिनिधित्व करने वाले वेस्टइंडीज के तीसरे क्रिकेटर बन गए हैं, जिन्हें इस सीज़न में उप-कप्तान नियुक्त किया गया है।शमार जोसेफ को एक्शन में देखना रोमांचक है और घरेलू दर्शक इस पल का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। जोसेफ, जिन्होंने इस जनवरी में अपने पहले टेस्ट में एडिलेड ओवल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने उल्लेखनीय प्रदर्शन से सभी का ध्यान आकर्षित किया, एलएसजी के सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सबसे अधिक मांग वाले क्रिकेटर बन गए हैं। एलएसजी द्वारा सोशल मीडिया पर साझा किए गए एक संक्षिप्त वीडियो में, जोसेफ ने टीम के प्रशिक्षण शिविर के दौरान अपने कौशल का प्रदर्शन किया, और अपने उत्साही प्रदर्शन से प्रशंसकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ, जहां उन्होंने ‘गाबा किले’ में वेस्टइंडीज की ऐतिहासिक जीत में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। बल्लेबाजी करते समय मिचेल स्टार्क के तेज यॉर्कर से चोट लगने के बावजूद, जोसेफ ने 7/68 के असाधारण गेंदबाजी स्पैल के साथ वापसी करने के लिए जबरदस्त लचीलापन दिखाया, जिससे उन्हें अपनी पहली श्रृंखला में ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ का खिताब मिला। जोसेफ के लिए प्रशंसाएं जारी रहीं, जिन्होंने सुरक्षा गार्ड के रूप में काम करने के बावजूद, जनवरी 2024 के लिए ICC मेन्स प्लेयर ऑफ द मंथ का ताज पहनाया, जिससे क्रिकेट की दुनिया में एक उभरते सितारे के रूप में उनकी स्थिति और मजबूत हो गई। वास्तव में, उनके शानदार प्रदर्शन के बाद एलएसजी ने उन्हें आगामी आईपीएल सीज़न के लिए अंग्रेजी तेज गेंदबाज मार्क वुड की जगह ले लिया।एलएसजी के एक अंदरूनी सूत्र ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, “हमें विश्वास है कि जोसेफ अपनी तेज गति और स्विंग से आईपीएल में एलएसजी के लिए प्रभाव छोड़ेंगे, यहां तक कि खेल के इस प्रारूप में भी।गाबा में कंगारुओं के खिलाफ सात विकेट लेकर वेस्टइंडीज को ऑस्ट्रेलिया में 27 साल बाद जीत दिलाने वाले शमार जोसेफ के लिए क्रिकेटर बनना काफी मुश्किल भरा रहा।  वह पहले मजदूरी करते थे और फिर उन्होंने सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी भी की। हालांकि, कहते हैं कि मेहनत करने वाले की कभी हार नहीं होती और शमार जोसेफ के साथ भी ऐसा ही हुआ। शमार जोसेफ के पास शुरुआत में क्रिकेट की गेंद तक नहीं थी। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो वह अमरूद और नींबू से गेंदबाजी की प्रैक्टिस करते थे। इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू से पहले शमार जोसेफ को काफी संघर्षों का सामना करना पड़ा है। शमार जोसेफ का जन्म 31 अगस्त 1999 को गयाना के बराकारा में हुआ था। उनके गांव में 2018 तक इंटरनेट तक नहीं था। शमार ने पुराने मैचों की हाईलाइट्स देखकर अपनी गेंदबाजी में धार लाई। वेस्टइंडीज के पूर्व दिग्गज कर्टली एम्ब्रोस और कर्टनी वॉल्श शमार जोसेफ के आदर्श हैं। इनके पुराने मैचों को देखकर ही शमार तूफानी गेंदबाज बने। हालांकि, प्रोफेशन क्रिकेटर बनना शमार जोसेफ के लिए बिल्कुल भी आसान नहीं रहा। शमार काफी गरीब परिवार से हैं। ऐसे में उन्हें बचपन से ही पैसों की तंगी की वजह से अपने पिता के साथ काम करना पड़ा। शमार ने मजदूरी की और फिर सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी भी की, ताकि वह अपने परिवार को आर्थिक तंगी से उभार सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *