?> ताबड़तोड़ फायरिंग में सात लोग गंभीर रूप से घायल एक राहगीर की गई जान। » Azad Samachar

ताबड़तोड़ फायरिंग में सात लोग गंभीर रूप से घायल एक राहगीर की गई जान।

एसीपी से परिजनों की बहस व हाथापाई, हंगामे की सूचना पर डीसीपी पूर्वी समेत कई थानों की फोर्स पहुंची।

संवाददाता।
कानपुर। नगर में दो पक्षों के विवाद में गोली लगने से एक युवक की मौत हो गई। वह बेटी को स्कूल से लेकर घर जा रहा था। तभी हुई फायरिंग में उसको गोली लग गई। जबकि ताबड़तोड़ फायरिंग में दो लोग और पथराव व मारपीट में 5 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए हैं। मौके पर पहुंची पुलिस ने ई-रिक्शा चालक के शव को काशीराम अस्पताल भेजा है। साथ ही घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया है। दरअसल, पटेल नगर कच्ची बस्ती में सीवर पाइप लाइन डालने को लेकर दो पड़ोसियों में झगड़ा चल रहा है। सोमवार को विवाद बढ़ गया। दोनों पक्ष आमने-सामने आ गए और उनमें मारपीट के बाद पथराव हो गया। इसी बीच एक सिक्योरिटी गार्ड ने लाइसेंसी बंदूक से फायर झोंक दिया। घटना के बाद घायलों के परिजनों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाकर हंगामा किया। एसीपी से भी लोगों ने हाथापाई की। आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पटेल नगर कच्ची बस्ती में रहने वाले विजय वर्मा ने बताया, वह अपने शौचालय की पाइप लाइन सड़क के चैंबर से जुड़वाना चाहते हैं। लेकिन उनके पड़ोस में रहने वाले सिक्योरिटी गार्ड शिव सागर शुक्ला इसका विरोध करते हैं। इसको लेकर उनके बीच करीब डेढ़ साल से विवाद चल रहा है। विजय वर्मा के मुताबिक उन्होंने 5 जुलाई को चकेरी थाने में समाधान दिवस के दौरान शिकायत भी की। लेकिन, पुलिस ने गंभीरता नहीं दिखाई। विजय और उनके बेटे प्रदीप सोमवार को वह क्षेत्रीय पार्षद नरोत्तम कुमार से बात करने के बाद पाइप लाइन डलवाने का काम शुरू कर दिया। उनके साथ इलाके के अदनान और मुजीबुर्रहमान भी सड़क खुदाई कर रहे थे। तभी शिव सागर बाहर निकला और पाइप लाइन डालने का विरोध करते हुए गाली-गलौज करने लगा और पथराव कर दिया। इस बीच एक पत्थर प्रदीप के सिर पर लग गया। इसके बाद विजय, प्रदीप और शिव सागर में मारपीट होने लगी। तभी झगड़ा होते देख प्रदीप की बहन खुशबू बीच-बचाव करने पहुंची, आरोप है कि सिक्योरिटी गार्ड शिव सागर ने उसे भी मारा और अपने बेटों अनुराग व अवनीश के साथ खींचते हुए घर के अंदर ले गया। इसके बाद दोनों पक्षों में पथराव होने लगा। दूसरे पक्ष से भी लोग आ गए और बवाल बढ़ गया। दोनों पक्षों से पथराव और मारपीट शुरू हो गई। इस दौरान दबंग शिव सागर ने अपनी लाइसेंसी बंदूक से छत से ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी। गोली उधर से गुजर रहे मोहल्ले में ही रहने वाले ई-रिक्शा चालक संदीप विश्वकर्मा को लग गई, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। इसके साथ ही खुदाई का काम कर रहे आदम के पेट में एक गोली जा धंसी और निर्मला देवी के पेट में गोली लगने से वह गंभीर रूप से घायल हो गईं। मारपीट और पथराव में दोनों पक्षों से प्रदीप, सोनिका, पुष्पा, अनुराग और शिव सागर समेत 7 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। सूचना पर चकेरी के साथ ही जाजमऊ, रेलबाजार, महाराजपुर, नर्वल समेत कई थानों का फोर्स मौके पर पहुंचा और हालात काबू किया। घटना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मृतक संदीप, घायल प्रदीप, अदनान, मुजीबुर्रहमान और खुशबू को लेकर काशीराम अस्पताल पहुंची। जहां पर संदीप और प्रदीप के घरवालों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाकर हंगामा करना शुरू कर दिया। इसी बीच अस्पताल पहुंचे एसीपी चकेरी अमरनाथ यादव से परिजनों की बहस व हाथापाई भी हुई। हंगामे की सूचना मिलते ही डीसीपी पूर्वी शिवाजी समेत कई थानों की फोर्स पहुंची। पुलिस अभी भी परिजनों को समझाकर शांत कराने के प्रयास में जुटी है। एसीपी अमरनाथ ने बताया कि दो पक्षों में सीवर लाइन का पाइप डालने को लेकर विवाद हो गया। सिक्योरिटी गार्ड ने छत से फायरिंग कर दी। इसमें एक पड़ोसी और ई-रिक्शा चालक को गोली लग गई। इसमें चालक की मौत हो गई। आरोपी सिक्योरिटी गार्ड को पकड़ लिया गया है। जांच की जा रही है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *