June 22, 2024

संवाददाता।
कानपुर। पिछले दिनों नगर में हुई बारिश के बाद डेंगू का खतरा दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है। स्वास्थ्य अधिकारी अब चिंताजनक स्थिति से जूझ रहे हैं क्योंकि एक ही दिन में डेंगू के तीन मामले सामने आने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। संक्रमित व्यक्ति तीन अलग-अलग स्थानों पर पाए गए, जिनमें आईआईटी कानपुर परिसर, काजीखेड़ा और लालबंगला शामिल हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा त्वरित कदम उठाए गए हैं और जिन क्षेत्रों में डेंगू के मरीज पाए गए हैं, वहां फॉगिंग की व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है। स्वास्थ्य विभाग की एक टीम भी मौके पर है और डेंगू के लक्षण वाले 18 से अधिक संदिग्ध व्यक्तियों के नमूने एकत्र कर रही है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी आलोक रंजन ने डेंगू रोगियों तक पहुंचने में सहायता के लिए यूडीएस पोर्टल के लॉन्च की पुष्टि की है। जब भी किसी अस्पताल में डेंगू का कोई मामला सामने आता है, तो सभी प्रासंगिक जानकारी ऐप पर अपलोड कर दी जाती है, जिससे स्वास्थ्य विभाग की टीम को डेटा इकट्ठा करने और प्रभावित क्षेत्र में निरीक्षण करने की अनुमति मिलती है। संदिग्ध रोगियों की गहन जांच की जा रही है और डेंगू संचरण को रोकने के लिए उचित उपाय सुझाए जा रहे हैं। सीएमओ ने सभी अस्पतालों में डेंगू मरीजों के लिए डेडिकेटेड वार्ड आवंटित करने के निर्देश जारी किए हैं। दवाओं की कमी का सामना करने वाले किसी भी अस्पताल को प्रभावित रोगियों के लिए आवश्यक दवाओं की समय पर खरीद सुनिश्चित करने के लिए तुरंत रिपोर्ट करने का निर्देश दिया जाता है। डेंगू के मरीजों का इलाज करने के अलावा, डॉक्टरों की जिम्मेदारी है कि वे मरीजों और तीमारदारों दोनों को बीमारी के प्रसार को रोकने के लिए निवारक उपायों के बारे में शिक्षित करें। चूंकि डेंगू का प्रकोप स्वास्थ्य के लिए बड़ा ख़तरा बना हुआ है, स्वास्थ्य अधिकारी स्थिति पर काबू पाने और सार्वजनिक स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए लगन से काम कर रहे हैं। इस कठिन समय में जनता को डेंगू संक्रमण से खुद को बचाने के लिए सतर्क रहना और आवश्यक सावधानियां बरतना आवश्यक है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *