June 22, 2024

संवाददाता।
कानपुर। नगर के भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान में भारत के संज्ञानात्मक विज्ञान समुदाय में एक मौलिक कार्यक्रम, संज्ञानात्मक विज्ञान के 3 दिवसीय वार्षिक सम्मेलन का 10वां संस्करण संपन्न हुआ। इस कार्यक्रम में मानव मन और मस्तिष्क की कार्यप्रणाली के बारे में ढेर सारी दिलचस्प बातचीत और चर्चाएं की गई। यह सम्मेलन आईआईटी कानपुर के संज्ञानात्मक विज्ञान विभाग में एसोसिएशन फॉर कॉग्निटिव साइंस  के तत्वावधान में आयोजित किया गया था। भारत सरकार के विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा समर्थित और एसोसिएशन ऑफ कॉग्निटिव साइंस द्वारा निर्देशित एसीसीएस का 10वां संस्करण संज्ञानात्मक मनोविज्ञान, तंत्रिका विज्ञान, कंप्यूटर विज्ञान और भाषा विज्ञान के क्षेत्रों में शोधकर्ताओं के एक जीवंत समुदाय को एक साथ लाया। इस कार्यक्रम में आईआईटी दिल्ली, आईआईटी बॉम्बे, आईआईटी गांधीनगर, आईआईटी भुवनेश्वर, आईआईआईटी  हैदराबाद, आईआईआईटी दिल्ली, सेंटर फॉर बिहेवियरल एंड कॉग्निटिव साइंस, इलाहाबाद विश्वविद्यालय, हैदराबाद विश्वविद्यालय, नेशनल ब्रेन रिसर्च केंद्र, मानेसर, हरियाणा, एनआईएमएचएएनएस बेंगलुरु और आईआईएससी बेंगलुरु सहित देश के कई संस्थानों के संकाय सदस्यों ने भाग लिया। उद्घाटन आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो. एस. गणेश ने किया। उन्होंने कहा कि यह संज्ञानात्मक विज्ञान का एक पूर्ण विभाग स्थापित करने वाला पहला आईआईटी संस्थान है। संज्ञानात्मक विज्ञान के प्रतिष्ठित वार्षिक सम्मेलन की यह दूसरी बार संस्थान मेजबानी कर रहा है। मुझे यकीन है कि इस कार्यक्रम के अंतर्गत आयोजित चर्चाएं और सत्र संज्ञानात्मक विज्ञान में परिवर्तनकारी विचारों का मार्ग प्रशस्त करेंगे। गेन्ट विश्वविद्यालय, बेल्जियम के प्रो. मार्क ब्रिसबार्ट ने इस बात पर ध्यान केंद्रित किया कि मनोवैज्ञानिक, इंजीनियरों से क्या सीख सकते हैं। हम उनसे सीखें की बड़ी समस्याओं से कैसे निपटा जाए और अपनी शोध में सुधार कैसे किया जाए। इसके बाद ध्यान और धारणा को समर्पित एक सत्र आयोजित किया गया, जहां देश भर के विभिन्न शैक्षणिक विभागों के छात्रों ने अपनी प्रस्तुति दी। उन्होंने मनोभौतिक प्रयोगों से लेकर उन्नत तंत्रिका वैज्ञानिक दृष्टिकोण तक के तरीकों को नियोजित किया। इसके बाद एक पोस्टर सत्र हुआ जहां छात्र आगंतुकों के साथ विचारोत्तेजक चर्चा में शामिल हुए। आईआईटी कानपुर के प्रोफेसर हरीश कार्निक ने दर्शकों को भारत में संज्ञानात्मक विज्ञान के विकास का एक विहंगम दृश्य पेश किया, जिसमें फंडिंग, उद्योग सहयोग और अनुसंधान सुविधाओं की स्थापना जैसे महत्वपूर्ण पहलुओं पर चर्चा की गई। विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के सचिव डॉ. अभय करंदीकर ने भारत में संज्ञानात्मक विज्ञान का समर्थन करने के प्रति डीएसटी की प्रतिबद्धता के बारे में बताया। उन्होंने संज्ञानात्मक विज्ञान के क्षेत्र में अनुसंधान और नवाचार को बढ़ावा देने के लिए डीएसटी की प्रमुख पहल, जिसे डीएसटी – संज्ञानात्मक विज्ञान अनुसंधान पहल के रूप में जाना जाता है, पर प्रकाश डाला। उन्होंने सर्वांगीण विकास सुनिश्चित करने के लिए अनुसंधान समुदाय से मेहनती बनने और शिक्षा जगत के भीतर और बाहर सहयोग करने का आग्रह किया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related News