June 22, 2024

संवाददाता।
कानपुर। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर (आईआईटी कानपुर) सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नए आयाम स्थापित करने में सबसे आगे रहा है। हालाँकि, इसका योगदान आईटी के दायरे से परे है क्योंकि यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के बहुप्रतीक्षित चंद्रयान -3 मिशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आईआईटी कानपुर के विशेषज्ञों की टीम चंद्रयान-3 मिशन में चंद्रमा की संरचना के रहस्यों को सुलझाने में अपनी विशेषज्ञता और ज्ञान का योगदान देने के लिए तैयार है। उनके शोध का उद्देश्य चंद्रमा पर पानी, गैसों और अन्य तत्वों की उपस्थिति का पता लगाना है, जिससे संभावित रूप से खगोल विज्ञान और अंतरिक्ष अन्वेषण में अभूतपूर्व प्रगति हो सके। जबकि संयुक्त राज्य अमेरिका, रूस और चीन चंद्रमा की सतह पर अंतरिक्ष यान उतारने में सफल रहे हैं, चंद्रयान -3 को 14 जुलाई, 2023 को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से लॉन्च किया गया था। आईआईटी कानपुर के पृथ्वी विज्ञान विभाग के प्रोफेसर दीपक ढींगरा भी इस मिशन में शामिल हो गए हैं। उनकी विशेषज्ञता का क्षेत्र चंद्रमा (पृथ्वी के उपग्रह) की संरचना का अध्ययन करना है, और उन्होंने चंद्रमा की सतह के खनिजों और उनके संबंधित उपसतह संदर्भ की पहचान करने के लिए विभिन्न प्रकार के रिमोट सेंसिंग डेटा के साथ बड़े पैमाने पर काम किया है। प्रोफेसर ढींगरा ने चंद्रमा पर उज्ज्वल अल्बेडो विशेषताओं, उच्च टाइटेनियम बेसाल्ट और एक नए रॉक प्रकार (एमजी-स्पिनल ऑर्थोपाइरोक्सेनाइट) के अध्ययन में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उनका शोध मुख्य रूप से चंद्रमा के पर्यावरण, मिट्टी और अन्य विशेषताओं को समझने पर केंद्रित है, जिसमें पानी और विभिन्न गैसों की उपस्थिति और उनके संबंध शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, वह चंद्रमा की सतह पर धातुओं और उनके कणों के गुणों की जांच करता है। उम्मीद है कि इन सभी निष्कर्षों से इसरो के सहयोग से चंद्रयान-3 मिशन में महत्वपूर्ण योगदान मिलेगा। मिशन का लक्ष्य चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर उतरना है, जहां आईआईटी कानपुर टीम की अनुसंधान विशेषज्ञता काम आएगी। टीम के योगदान से चंद्र पर्यावरण, खनिज संरचना और पानी जैसे संसाधनों के वितरण में महत्वपूर्ण अंतर्दृष्टि प्राप्त होने की उम्मीद है। यह शोध इसरो के चंद्र अन्वेषण और विभिन्न अनुप्रयोगों के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का लाभ उठाने के व्यापक लक्ष्यों के अनुरूप है।प्रोफेसर ढींगरा के पास चंद्रमा का अध्ययन करने, विशेष रूप से खनिज विज्ञान और संबंधित भूभौतिकीय संदर्भों में व्यापक अनुभव है। रिमोट सेंसिंग डेटा और चंद्र सतह खनिज पहचान पर उनके पिछले काम ने चंद्रमा के भूवैज्ञानिक इतिहास की हमारी समझ में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उनकी विशेषज्ञता निस्संदेह चंद्रयान-3 मिशन के दौरान चंद्र रहस्यों को समझने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। चंद्रयान-3 मिशन अंतरिक्ष अन्वेषण के एक नए युग की शुरुआत करने और भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम में क्रांति लाने के लिए तैयार है। इस मिशन से उत्पन्न अवसरों को भुनाने के लिए कई स्टार्ट-अप पहले से ही कमर कस चुके हैं। उपग्रह प्रक्षेपण में भाग लेने वाली निजी कंपनियों के साथ ये नवोन्मेषी उद्यम भारत के अंतरिक्ष क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण बदलाव का संकेत देते हैं। यह पहचानना आवश्यक है कि चंद्रयान-3 की सफलता न केवल अंतरिक्ष अन्वेषण में भारत की स्थिति को मजबूत करेगी बल्कि खगोल विज्ञान, खगोल भौतिकी और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी सहित विभिन्न क्षेत्रों में प्रगति भी लाएगी। इस मिशन में अभूतपूर्व खोजों की जबरदस्त क्षमता है जो ब्रह्मांड के बारे में मानवता की समझ को आगे बढ़ा सकती है।आईआईटी कानपुर ने भारत के वैज्ञानिक प्रयासों में लगातार महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और चंद्रयान-3 मिशन में इसका योगदान अंतरिक्ष अनुसंधान और प्रौद्योगिकी विकास में इसके महत्व को और रेखांकित करता है। संस्थान के विशेषज्ञ अंतरिक्ष मिशनों में नवाचार और उत्कृष्टता को बढ़ावा देने, इसरो और अन्य हितधारकों के साथ सहयोग करने के लिए अपने डोमेन ज्ञान और अत्याधुनिक अनुसंधान क्षमताओं को लाते हैं। जैसे-जैसे भारत अंतरिक्ष अन्वेषण में प्रगति कर रहा है, चंद्रयान -3 मिशन देश की वैज्ञानिक कौशल और अंतरिक्ष के अज्ञात क्षेत्रों की खोज के प्रति इसकी अटूट प्रतिबद्धता के प्रमाण के रूप में खड़ा है। राष्ट्र इस मिशन के परिणामों का उत्सुकता से इंतजार कर रहा है, क्योंकि यह रोमांचक खोजों और वैज्ञानिक सफलताओं का अग्रदूत होने का वादा करता है जो अंतरिक्ष अन्वेषण के भविष्य पर एक अमिट छाप छोड़ेगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *