June 21, 2024

संवाददाता।
कानपुर। नगर के बिधनू में एक दिल दहला देने वाली घटना घटी, जहां एक तेज रफ्तार डंपर ट्रक ने भाई-बहन को टक्कर मार दी, जिससे उनकी असामयिक मौत हो गई। भाई-बहन साइकिल पर सवार होकर स्कूल जा रहे थे, तभी यह दुर्घटना हुई और उनकी तुरंत मौत हो गई। चौंकाने वाली घटना के कारण उत्तेजित स्थानीय लोगों ने न्याय और तत्काल कार्रवाई की मांग करते हुए कानपुर-सागर राजमार्ग को अवरुद्ध कर दिया। पुलिस अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे और आगे की जांच के लिए शवों को कब्जे में लेने का प्रयास किया, लेकिन दुखी परिवार ने उन्हें सौंपने से इनकार कर दिया। यह प्रदर्शन करीब तीन घंटे तक चला, जिससे हाईवे के दोनों ओर 15 किलोमीटर लंबा जाम लग गया। आखिरकार, जिला मजिस्ट्रेट (डीएम) और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) ने हस्तक्षेप किया, स्थिति को शांत किया और विरोध समाप्त किया। यह दुखद घटना मंगलवार सुबह करीब 7 बजे शम्भुहा गांव में हुई, जहां राकेश, जिसे हरिओम के नाम से भी जाना जाता है, अपने परिवार के साथ रहता था। राकेश अपने घर का भरण-पोषण करने के लिए किसान के रूप में काम करते थे और उनकी बेटी काशी (10) और बेटे ऋषभ (5) का दाखिला गांव के जूनियर स्कूल में हुआ था। उस मनहूस सुबह, काशी अपने भाई को साइकिल पर स्कूल ले जा रही थी, तभी राजमार्ग पर एक तेज रफ्तार डंपर ट्रक ने उन्हें टक्कर मार दी। टक्कर इतनी भीषण थी कि भाई-बहन दुर्घटनास्थल से काफी दूर जा गिरे, जिससे उनकी तुरंत मौत हो गई। घटनास्थल पर मौजूद प्रत्यक्षदर्शियों ने डंपर ट्रक की गति खतरनाक रूप से अधिक बताई। टक्कर के बाद चालक डंपर ट्रक छोड़कर मौके से भाग गया। हालांकि, सतर्क ग्रामीणों ने ड्राइवर का पीछा किया और उसे पतारा में दुर्घटना स्थल से लगभग 7 किलोमीटर दूर पकड़ लिया। ग्रामीणों ने तुरंत आगे की जांच के लिए उसे पुलिस को सौंप दिया। दुखद दुर्घटना की खबर तेजी से फैल गई, जिससे स्थानीय लोगों में दुख और गुस्से की लहर दौड़ गई। शिकायतें तेज़ हो गईं क्योंकि लोगों ने राजमार्ग पर लगातार दुर्घटनाओं और सड़क सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त उपायों की कमी पर निराशा व्यक्त की। आक्रोशित ग्रामीणों ने विरोध प्रदर्शन करके, कानपुर-सागर राजमार्ग को अवरुद्ध करके और निर्दोष लोगों की जान के नुकसान के लिए न्याय की मांग करके मामले को अपने हाथों में लेने का फैसला किया। स्थिति का आकलन करने और प्रदर्शनकारियों की चिंताओं को दूर करने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों सहित पुलिस बल घटनास्थल पर पहुंचे। जिला प्रशासन और पुलिस अधिकारियों ने प्रदर्शनकारियों से शांति बनाए रखने और कानूनी प्रक्रियाओं को आगे बढ़ने देने की अपील की। कई घंटों की बातचीत और आश्वासन के बाद, प्रदर्शनकारी अंततः तितर-बितर हो गए, जिससे तीन घंटे तक चला प्रदर्शन समाप्त हो गया। घटना के बाद, पुलिस ने दुखद दुर्घटना का कारण और जिम्मेदारी निर्धारित करने के लिए गहन जांच शुरू की। डंपर ट्रक चालक को हिरासत में ले लिया गया और उससे पूछताछ की गई ताकि टक्कर के कारणों के बारे में जानकारी जुटाई जा सके। आगे के सबूत जुटाने के लिए दुर्घटना में शामिल वाहन को फोरेंसिक जांच के लिए जब्त कर लिया गया। मौत के कारण का पता लगाने और जांच के लिए महत्वपूर्ण सबूत इकट्ठा करने के लिए मृतक भाई-बहनों का पोस्टमार्टम किया गया। इन परीक्षाओं के निष्कर्ष घटनाओं के अनुक्रम को स्थापित करने और किसी भी संभावित लापरवाही या गलत काम का निर्धारण करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। इसके साथ ही, पुलिस अधिकारियों ने दुर्घटना का पुनर्निर्माण करने और अतिरिक्त सबूत इकट्ठा करने के लिए आसपास के इलाके के सीसीटीवी फुटेज और प्रत्यक्षदर्शियों के बयानों का विश्लेषण किया। उन्होंने डंपर ट्रक चालक की पृष्ठभूमि की गहन जांच भी शुरू की, जिसमें उसके ड्राइविंग लाइसेंस, पूर्व यातायात उल्लंघन और किसी भी संभावित मादक द्रव्यों के सेवन की पुष्टि शामिल थी। जांच के नतीजों के आधार पर कानूनी कार्यवाही शुरू की जाएगी। चालक पर भारतीय दंड संहिता और मोटर वाहन अधिनियम की संबंधित धाराओं के अनुसार आरोप लगाए जाएंगे। पुलिस और कानूनी अधिकारी निष्पक्ष सुनवाई सुनिश्चित करने और पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए लगन से काम करेंगे। इस दुखद घटना के मद्देनजर, दुखी परिवार को समर्थन और सहानुभूति देना आवश्यक है। उन्हें जो गहरा नुकसान हुआ है, उससे निपटने में मदद के लिए परामर्श सेवाएँ और मानसिक स्वास्थ्य सहायता उपलब्ध कराई जानी चाहिए। इसके अतिरिक्त, समुदाय के सदस्य और स्थानीय संगठन इस चुनौतीपूर्ण समय के दौरान परिवार की मदद के लिए वित्तीय और भावनात्मक सहायता प्रदान करने के लिए एक साथ आ सकते हैं। यह दुर्भाग्यपूर्ण दुर्घटना बेहतर सड़क सुरक्षा उपायों की तत्काल आवश्यकता पर भी प्रकाश डालती है। विशेष रूप से, कानपुर-सागर राजमार्ग पर संभावित खतरों की पहचान करने और उचित सुरक्षा उपायों को लागू करने के लिए सावधानीपूर्वक मूल्यांकन और आकलन की आवश्यकता है। इसमें गति सीमा को सख्ती से लागू करना, एसपी की स्थापना शामिल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related News