June 22, 2024

संवाददाता।
कानपुर। इतिहास और संस्कृति से भरपूर नगर, कानपुर कई प्राचीन मंदिरों का घर है जो समय की कसौटी पर खरे उतरे हैं। ये पवित्र पूजा स्थल न केवल वास्तुशिल्प चमत्कार हैं बल्कि महत्वपूर्ण सांस्कृतिक स्थल भी हैं। हालाँकि, हाल के दिनों में, इनमें से कई मंदिर अतिक्रमण, उपेक्षा और अनधिकृत कब्जे का शिकार हो गए हैं, जिससे उनके अस्तित्व और संरक्षण को लेकर चिंताएँ बढ़ गई हैं।अतिक्रमण का दंश झेलने वाला ऐसा ही एक मंदिर है कानपुर के डॉ. बेरी चौक पर स्थित राम-जानकी मंदिर। एक समय एक पूजनीय मंदिर, यह मंदिर अब जीर्ण-शीर्ण अवस्था में है, अतिक्रमित परिसर के बीच इसका केवल एक छोटा सा हिस्सा दिखाई देता है। अतिक्रमणकारी इस हद तक चले गए हैं कि मंदिर के मैदान का उपयोग बिरयानी बनाने और बेचने के लिए किया जा रहा है, जो एक पवित्र स्थल के प्रति अनादर का एक चौंकाने वाला प्रदर्शन है। यह दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति अकेले राम-जानकी मंदिर की नहीं है। नगर भर में सौ से अधिक मंदिर हैं जिन पर अतिक्रमण किया गया है और वे भी इसी तरह के भाग्य का सामना कर रहे हैं। इन मंदिरों की दुर्दशा हमारी सांस्कृतिक विरासत की रक्षा करने और इन पवित्र संरचनाओं के संरक्षण को सुनिश्चित करने के लिए तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता की याद दिलाती है। इस ज्वलंत समस्या के समाधान के लिए महापौर प्रमिला पांडे ने एक अभियान शुरू किया है। उनका दावा है कि इन मंदिरों पर से अतिक्रमण हटा दिया जाएगा और मंदिरों को उनके पूर्व गौरव पर बहाल किया जाएगा। अभियान का उद्देश्य प्राचीन मंदिरों को पुनः प्राप्त करना और उन्हें उनके उचित धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व में लौटाना है। कानपुर प्रशासन ने डॉ. बेरी चौक पर स्थित राम-जानकी मंदिर पर ध्यान केंद्रित करते हुए मंदिरों को पुनः प्राप्त करने के अपने प्रयास शुरू किए। स्थानीय पुलिस और प्रशासन की एक टीम ने मंदिर परिसर का सर्वेक्षण किया और यह देखकर हैरान रह गए कि मंदिर के काफी हिस्से पर अतिक्रमण कर लिया गया है। इसके अलावा, मंदिर के अंदर की मूर्तियों और अन्य धार्मिक कलाकृतियों को हटा दिया गया था या अपवित्र कर दिया गया था। दुख की बात है कि अतिक्रमण का मुद्दा राम-जानकी मंदिर से भी आगे तक फैला हुआ है। बाकरगंज मोहल्ले में शिव मंदिर को अतिक्रमणकारियों ने चारों तरफ से बंद कर दिया है। मंदिर 60 वर्षों से अधिक समय से अवैध कब्जे में है, और इसका अस्तित्व अधर में लटका हुआ है। यह दुर्दशा कुछ मंदिरों तक ही सीमित नहीं है; कानपुर में कई अन्य प्राचीन मंदिर भी इसी तरह की चुनौतियों का सामना कर रहे हैं, उनका अस्तित्व खतरे में है। नगर के मुस्लिम बहुल इलाकों में चार प्राचीन मंदिरों की जांच के दौरान अधिकारियों ने चौंकाने वाली खोजें कीं। पाया गया कि इनमें से लगभग सभी मंदिरों पर अतिक्रमण कर लिया गया था, यहाँ तक कि पवित्र शिवलिंग और देवताओं को भी परिसर से हटा दिया गया था। अतिक्रमण मुद्दे की भयावहता और इन पवित्र स्थलों की अपवित्रता बेहद परेशान करने वाली थी। डॉ. बेरी चौक पर, राम-जानकी मंदिर, जो लगभग एक शताब्दी पुराना है, अब अपने मूल स्थान का केवल एक अंश ही घेरता है। यह मंदिर लगभग 2400 वर्ग गज के क्षेत्र में फैला हुआ था, लेकिन अब, इसका केवल एक छोटा सा टुकड़ा ही बरकरार है। इन वर्षों में, कई हिंदुओं ने मंदिर के आसपास की अपनी जमीनें बेच दीं या विभिन्न कारणों से पलायन करने के लिए मजबूर हो गए, जिससे मंदिर परिसर का अतिक्रमण हुआ। यह गंभीर परिदृश्य केवल राम-जानकी मंदिर तक ही सीमित नहीं है; पूरे कानपुर में कई अन्य मंदिर भी इसी तरह अतिक्रमण और अनधिकृत कब्जे से पीड़ित हैं। अतिक्रमणकारियों ने इन पवित्र संरचनाओं को घेर लिया है, जिससे वे दुर्दशा और उपेक्षा की दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति में हैं। शायद अतिक्रमण के सबसे गंभीर उदाहरणों में से एक शहर के कानपुर हिंसा के मुख्य आरोपी मुख्तार बाबा का मामला है। मुख्तार बाबा ने कथित तौर पर पूरे मंदिर पर कब्ज़ा कर लिया और इसे एक विशाल दुकान और बाज़ार में बदल दिया, और इसे बेशर्मी से “बाबा बिरयानी” नाम दिया। अतिक्रमण के ऐसे दुस्साहसिक कृत्य हमारी सांस्कृतिक विरासत की सुरक्षा के लिए तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता को रेखांकित करते हैं। कानपुर में मंदिरों पर अतिक्रमण का मुद्दा जटिल और बहुआयामी है। इन अतिक्रमणों के कारण अलग-अलग हैं, जिनमें व्यक्तिगत लाभ से लेकर व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए मंदिर की भूमि को हथियाने के संगठित प्रयास शामिल हैं। हालाँकि, कारण चाहे जो भी हों, अधिकारियों के लिए इन प्राचीन मंदिरों को आगे के अतिक्रमण से बचाने और उनकी पवित्रता को बहाल करने के लिए कड़ा रुख अपनाना महत्वपूर्ण है। इन मंदिरों के संरक्षण और जीर्णोद्धार के लिए एक व्यापक दृष्टिकोण की आवश्यकता है जिसमें कई हितधारकों का सहयोग शामिल है। इसकी शुरुआत मंदिर की भूमि पर अतिक्रमण की सीमा का पता लगाने के लिए गहन सर्वेक्षण और दस्तावेज़ीकरण करने से होती है। कब्जे वाले क्षेत्रों को पुनः प्राप्त करने के लिए मंदिरों की मूल सीमाओं और लेआउट की पहचान करना भी महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, अतिक्रमण के खिलाफ कानूनों और विनियमों का प्रभावी कार्यान्वयन महत्वपूर्ण है। अधिकारियों को अवैध कब्जे में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए और अतिक्रमित मंदिर भूमि को पुनः प्राप्त करने के लिए बेदखली अभियान शुरू करना चाहिए। इसके अतिरिक्त, संभावित अपराधियों के लिए निवारक के रूप में कार्य करने के लिए अतिक्रमण के लिए दंड को और अधिक कठोर बनाया जाना चाहिए। इस प्रयास में सामुदायिक भागीदारी भी उतनी ही महत्वपूर्ण है। इन मंदिरों के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व के बारे में स्थानीय आबादी के बीच जागरूकता बढ़ाने से संरक्षण प्रयासों के लिए समर्थन मिल सकता है। धार्मिक और सांस्कृतिक संगठनों के साथ जुड़ने से सार्वजनिक समर्थन जुटाने और मंदिरों के जीर्णोद्धार के लिए धन जुटाने में भी मदद मिल सकती है। अतिक्रमणकारियों का पुनर्वास एक और पहलू है जिस पर सावधानीपूर्वक विचार करने की आवश्यकता है। कई अतिक्रमणकारियों ने सामाजिक-आर्थिक कारणों या विकल्पों की कमी के कारण मंदिर की भूमि पर कब्जा कर लिया होगा। बेदखली अभियान सहानुभूति के साथ चलाया जाना चाहिए और उन्हें वैकल्पिक आवास और आजीविका के विकल्प प्रदान करने के प्रयास किए जाने चाहिए। कानपुर में प्राचीन मंदिरों का संरक्षण और जीर्णोद्धार केवल धार्मिक भावना का मामला नहीं है, बल्कि शहर की सांस्कृतिक पहचान और विरासत का प्रतिबिंब भी है। ये मंदिर हमारे समृद्ध अतीत के जीवंत प्रतीक हैं, और उनका संरक्षण हमारे इतिहास और परंपराओं की सुरक्षा के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है। कानपुर में प्राचीन मंदिरों की दुर्दशा गंभीर चिंता का कारण है। इन मंदिरों को जिन अतिक्रमणों और अपवित्रताओं का सामना करना पड़ा है, वे हमारी सांस्कृतिक विरासत की रक्षा करने की तत्काल आवश्यकता की परेशान करने वाली याद दिलाते हैं। इन मंदिरों को पुनः प्राप्त करने के लिए महापौर प्रमिला पांडे का अभियान हमारे समाज में उनका उचित स्थान बहाल करने की दिशा में एक सराहनीय कदम है। हालाँकि, इस प्रयास के लिए अधिकारियों, समुदाय और धार्मिक संगठनों के सामूहिक प्रयासों की आवश्यकता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि ये मंदिर आने वाली पीढ़ियों के लिए संरक्षित हैं। इन पवित्र संरचनाओं को महत्व देकर और उनकी सुरक्षा करके, हम अपनी समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को श्रद्धांजलि देते हैं और अपने इतिहास और परंपराओं को संरक्षित करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता प्रदर्शित करते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *