June 22, 2024

और भी गिरफ्तारियां होंगी अवैध सोने के सराफा व्यापारियों के नेटवर्क की गहराई से जांच चल रही डीआरआई…

संवाददाता।
कानपुर। राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने कानपुर में प्रमुख सर्राफा व्यापारी संजीव अग्रवाल के आवास, कार्यालय और होटलों पर 12 घंटे से चल रही बड़ी छापेमारी की। यह छापेमारी मिर्ज़ापुर से जुड़े सोने की तस्करी के रैकेट में उनकी कथित संलिप्तता के कारण की गई थी। ऑपरेशन के दौरान, अग्रवाल के अवैध सोने के कारोबार से जुड़े महत्वपूर्ण सबूत सामने आए। लगातार चल रही छापेमारी के आधार पर डीआरआई टीम ने संजीव अग्रवाल और उनके दो कर्मचारियों को हिरासत में लिया और पूछताछ के लिए लखनऊ ले गई। बुधवार सुबह तक चली छापेमारी में 50 करोड़ से अधिक मूल्य के सोने की तस्करी के नेटवर्क का पर्दाफाश हुआ। इसके अतिरिक्त, डीआरआई ने व्यापारी के परिसर से लगभग 1 करोड़ मूल्य का सोना और 64 लाख नकद जब्त किए। डीआरआई के सूत्रों ने खुलासा किया है कि मिर्ज़ापुर में फैजाबाद रेलवे स्टेशन के पास 2.4 किलोग्राम सोना ले जा रहे एक व्यक्ति की गिरफ्तारी से टीम संजीव अग्रवाल तक पहुंची। इस सुराग के बाद, डीआरआई ने अग्रवाल के आवास, कार्यालय और होटलों पर एक साथ छापा मारा, जिसमें करोड़ों रुपये के वित्तीय लेनदेन का खुलासा हुआ। डीआरआई टीम ने जांच के दौरान काले धन के निशान भी उजागर किए, हालांकि आगे सत्यापन लंबित है। टीम को बड़े पैमाने पर सोने की तस्करी के संचालन से संबंधित महत्वपूर्ण साक्ष्य प्रदान किए गए, जो कर चोरी में शामिल एक व्यापक नेटवर्क का संकेत देते हैं। डीआरआई टीम ने व्यापारी को और उसके कर्मचारियों को हिरासत में लेने से पहले सुबह चार बजे तक उसके आवास और कार्यालय का बारीकी से निरीक्षण किया। हिरासत में लिए गए व्यक्तियों को बाद में लखनऊ ले जाया गया, जहां वरिष्ठ अधिकारी एकत्रित दस्तावेजों के आधार पर आगे की पूछताछ करेंगे। अग्रवाल के आवास और कार्यालय से जब्त किए गए दस्तावेजों में कथित तौर पर कानपुर, लखनऊ और कोलकाता के कई अन्य व्यापारियों के साथ लेनदेन के रिकॉर्ड हैं। इसके अतिरिक्त, परिसर में मिली एक डायरी में विभिन्न व्यवसायियों के साथ लेनदेन की सूची है, जिससे संभावित रूप से सोने की तस्करी नेटवर्क में और अधिक व्यक्तियों के शामिल होने की संभावना है। चूंकि डीआरआई मामले की जांच जारी रखे हुए है, इसलिए संभव है कि और भी गिरफ्तारियां हो सकती हैं क्योंकि वे अवैध सोने के व्यापार में शामिल सराफा व्यापारियों के परस्पर जुड़े नेटवर्क की गहराई से जांच करेंगे। छापेमारी ने क्षेत्र में काले धन और सोने की तस्करी गतिविधियों की व्यापकता के बारे में गंभीर चिंताएं बढ़ा दी हैं, जिससे सराफा उद्योग में कड़ी निगरानी और जवाबदेही उपायों की आवश्यकता पर बल दिया गया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *