June 22, 2024


अण्डंर-23 को छोड दिया जाए तो कोई भी टीम नही कर सकी कोई खास प्रदर्शन


कानपुर। साल 2023 उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ के लिए केवल अण्डर-23 की टीम के चैम्पियन बनने के अलावा किसी अन्य चीज के लिए पहचाना नही जाएगा। इस बीते साल में प्रदेश क्रिकेट संघ में एक ट्राफी को छोडकर केवल बदनामियों का अम्बा्र ही ट्राफियों के रूप में संघ के कार्यालय में जमा होता गया। इसके अलावा क्रिकेट में कुछ अधिक उपलब्धि संघ की कोई भी टीम नही पा सकी जबकि संघ के भीतर मचे घमासान के चलते कई मामले पुलिस की दहलीज तक अवश्य् ही पहुंच गए। प्रदेश क्रिकेट संघ अपने पुराने ढर्रे में ही गतिविधियों को अंजाम देने में मशगूल दिखायी दे रहा है। हेड कोच सुनील जोशी पर लाखों रुपए खर्च करने वाले संघ की सीनियर टीम भी किसी प्रकार की चैम्पियन बनने के आसपास नही पहुंच सकी। यूपीसीए के सूत्र बतातें हैं कि सुनील जोशी पर संघ के आला अधिकारी के साथ ही कई सदस्यों की मेहरबानी के चलते उन्हे दोबारा टीम से जोडा गया है।हालांकि क्रिकेट में बुरी दशा संघ के लिए कोई नई बात नही है कई सालों से ऐसा होता चला आ रहा है। अब तो क्रिकेट की कमान भी ऐसे लोगों के हाथ में दे दी गयी है जिनपर वर्तमान पदाधिकारियों ने भ्रष्‍टाचार का आरोप लगवाकर हटवा दिया था।अगर 2021 के अपवाद को छोड दिया जाए जिसमें यूपी की टीम विजय हजारे एक दिवसीय क्रिकेट टूर्नामेन्ट में मुम्बई से खिताबी मुकाबले में पराजित हो गयी थी लेकिन इस बार टीम वहां तक भी नही पहुंच सकी और बदनामी अलग मोल ले ली। इस बार संघ के भीतर मचा घमासान छीछालेदर तक पहुंच चुका है जो इससे पहले शायद ही कभी पहुंचा हो। अब तो इस बार महिला क्रिकेट से जुडीं पदाधिकारी और कर्मचारी भी एक दूसरे के कपडे फाडने पर उतारू हो गयी जो क्रिकेट जगत में संघ की बदनामी के लिए विशेष तौर पर पहचाना गया। साल का सबसे अधिक रोमाचंक किस्सा संघ के संस्थापक सदस्य और वर्तमान में सत्ता में काबिज गुट के बीच तनातनी का रहा जिसमें संरक्षक के पास तक मामले को ले जाया गया। आडियो और वीडियो के वायरल होने के बाद यूपीसीए में चयनकर्ताओं और उनके द्धारा नियुक्त सुपर एजेन्टों की पोल भी खुलकर देखने को मिली जिससे यह भी साबित हो गया कि खिलाडियों की चयन प्रक्रिया कई सालों से धांधली बरकरार है। यही नही संघ के भीतर चल रहे घमासान में दो पूर्व सचिवों के वरदहस्त सुपर सेलक्टर और उनके एजेन्ट भी प्रभावी ढंग से कार्य करते रहे जिसका खामियाजा टीम में बेहतरीन खिलाडियों की आमद न के बराबर रही। दिल्ली‍ और हरियाणा और उससे सटे प्रान्तों से क्रिकेटरों का आयातित किया जाना भी ये साल यूपीसीए के लिए खासा पहचाने जाने वाला साल साबित हो गया। हांलाकि अभी भी कुछ मामले कहीं पुलिस तो कहीं राजभवन के साथ ही न्यायालय के दरवाजों पर खडे है जो वक्त का इन्तजार कर रहें हैं।क्रिकेट जगत के लोग यह आशा जता रहे हैं कि साल 2024 यूपीसीए के साथ ही प्रदेश के क्रिकेटरों के लिए आशा से भरा साल हो और संघ की पुरानी छवि एक बार फिर से लौट आए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *