?> सीएसजेएमयू के छात्रों का स्टार्टअप बिजली की बचत के लिए बहुत अहम साबित। » Azad Samachar

सीएसजेएमयू के छात्रों का स्टार्टअप बिजली की बचत के लिए बहुत अहम साबित।

संवाददाता।
कानपुर। नगर में छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविद्यालय के छात्रों का स्टार्टअप बिजली की बचत के लिए बहुत अहम साबित हुआ है। बीकॉम द्वितीय वर्ष के छात्रों ने एक ऐसे सेंसर और स्मार्ट स्विच बनाया है, जो कि इंसानों को देखकर काम करता है। अगर आप भी अपने घर में इसका प्रयोग करते हैं तो कम से कम 50% बिजली की खपत को कम कर सकते है, क्योंकि यह सेंसर ऐसा है जीससे कमरे में इंसान को देखते ही लाइट जल जाएगी और कमरे के बाहर जाते ही लाइट अपने आप बंद हो जाएगी। इसका प्रयोग छात्रों ने सबसे पहले विश्वविद्यालय कैंपस में ही किया है।
बीकॉम द्वितीय वर्ष के छात्र सार्थक तिवारी और श्रीधर आनंद तिवारी ने मिलकर यह सेंसर और स्मार्ट स्विच को तैयार किया है। कैंपस के 70% क्षेत्र में इस सेंसर का प्रयोग किया गया है। रोजाना जहां पर 130 यूनिट का खर्च आता था तो अब वहां महज 20 से 21 यूनिट का ही खर्च आ रहा है। छात्रों ने सबसे पहले विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर विनय कुमार पाठक के ऑफिस में इस सेंसर को लगाकर अपना स्टार्टअप दिखाया। कुलपति ने इस स्टार्टअप को बहुत पसंद किया। इसके बाद छात्रों ने एक-एक कर कैंपस की अलग-अलग बिल्डिंगों में भी सेंसर और स्मार्ट स्विच का प्रयोग किया। सार्थक तिवारी ने बताया कि 2019 में जब मैं बीएनएसडी शिक्षा निकेतन में हाई स्कूल की पढ़ाई कर रहा था, उसी समय मेरे दिमाग में आया था कि कोई ऐसा सेंसर का निर्माण किया जाए, जिससे हम बिजली की बचत कर सके। तब से लगातार में लैब में इस ओर काम किया करता था। कभी रोबोट बनाया तो कभी किसी अन्य चीज में इलेक्ट्रॉनिक उपकरण लगाकर नए-नए चीज बनाने का प्रयास करता था, जब 2021 में जय नारायण विद्या मंदिर से इंटर की परीक्षा पास की और विश्वविद्यालय में दाखिला लिया तो यहां के इनक्यूबेशन सेंटर से जुड़ा। इसके बाद पूरी तरह से इस ओर काम करने लगा। फिर सबसे पहले ऑटो क्लिक के नाम से अपनी कंपनी बनाई और 2023 में इसमें सफलता मिली। सार्थक ने बताया कि सेंसर का प्रयोग हम अधिकतर उस जगह पर करते हैं जहां पर हमारा बार-बार मूवमेंट होता है, जैसे कि ऑफिस, बाथरूम, पार्किंग में इन क्षेत्रों में हम सेंसर का प्रयोग करते हैं क्योंकि यहां पर आदमी कभी भी किसी भी वक्त आता जाता रहता है। जैसे ही कोई ऑफिस के अंदर एंट्री करेगी तो लाइट अपने आप जल जाएगी क्योंकि इस सेंसर में हम लोगों ने टाइम, सेंस के साथ-साथ लक्स का भी फीचर दिया हुआ है, जो कि अभी तक किसी और सेंसर में नहीं है। सेंसर में हम टाइमिंग सेट कर सकते हैं कि रात में लोगों के आने पर ही लाइट जले तो सेंसर वैसे ही काम करेगा। अगर दिन में लाइट की जरूरत नहीं है तो फिर लाइट नहीं जलेगी, क्योंकि उसमें टाइम की भी सेटिंग कर सकते हैं। सार्थक के मुताबिक स्मार्ट स्विच का प्रयोग हम अपने घरों में कर सकते हैं,  जब हम अपने रूम में जाएंगे तो लाइट अपने आप ऑन हो जाएगी और जब हम बाहर निकलेंगे तो लाइट अपने आप बंद हो जाएगी। इसमें एक फायदा यह है कि इस स्मार्ट स्विच को हम अपने एप्प से जोड़ देते हैं। यदि हम घर पर नहीं है और घर पहुंचने से पहले ही हमें अपना एसी, गीजर, पंखा, लाइट कुछ भी ऑन करना है तो हम ऑल ओवर इंडिया में कहीं से भी बैठकर ऑन या ऑफ कर सकते हैं। अगर कोई स्विच गलती से घर पर खुला छूट भी गया हैं तो उसको हम एप्प के माध्यम से दूर बैठकर बंद भी कर सकते हैं। इसकी कीमत अलग-अलग तरह से है। यदि कोई घर पर एक पंखा और एक लाइट का कनेक्शन कराता है तो उसकी कीमत लगभग 1500 रुपये के आसपास आती है। यदि दो पंखे और दो लाइट लगवाते हैं तो उसकी कीमत लगभग 3000 से 3500 रुपये के आसपास आती है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *