?> कानपुर आईआईटी के वरिष्ठ वैज्ञानिक प्रो. समीर खांडेकर की मौत। » Azad Samachar

कानपुर आईआईटी के वरिष्ठ वैज्ञानिक प्रो. समीर खांडेकर की मौत।

संवाददाता।
कानपुर। नगर में आईआईटी के सीनियर वैज्ञानिक प्रो. समीर खांडेकर नहीं रहे। शुक्रवार को मंच पर बोलते-बोलते उनको हार्टअटैक आया। वह मंच पर गिर पड़े। वहां बैठे लोगों को लगा कि वह भावुक हुए हैं। इसलिए बैठ गए। जब थोड़ी देर तक वह नहीं उठे तो लोगों ने भागकर उनको उठाया। आनन-फानन में  कॉर्डियोलाजी ले जाया गया। वहां जाच के बाद डॉक्टर्स ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। प्रो. खांडेकर आईआईटी कानपुर में एल्युमिनाई मीट को संबोधित कर रहे थे। वहां मौजूद लोगों ने बताया कि वह सेहत को लेकर स्पीच दे रहे थे। उनके आखिरी शब्द थे…सेहत का ध्यान रखें। यह कहते ही उनके चेहरा पसीना-पसीना हो गया। तबीयत बिगड़ी और बेहोश हो गए। 55 साल के प्रो. खांडेकर आईआईटी कानपुर में मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक होने के साथ ही डीन ऑफ स्टूडेंट अफेयर के पद पर भी कार्यरत थे। परिवार में माता-पिता के अलावा उनकी पत्नी प्रद्यन्या खांडेकर और उनका बेटा प्रवाह खांडेकर हैं। प्रो. खांडेकर से जुड़े लोगों ने बताया कि शुक्रवार शाम 4 बजे आईआईटी के ऑडिटोरियम में कार्यक्रम चल रहा था। वहां एल्युमिनाई स्पीच दे रहे थे। तभी प्रो. खांडेकर का नंबर आया। वह मंच पर बोलने के लिए पहुंचे। स्पीच में सेहत का ध्यान रखने की बात कह रहे थे। तभी यह घटना हो गई। प्रो. खांडेकर को साल-2019 में कोलेस्ट्राल की परेशानी हुई थी। उनकी दवाइयां चल रहीं थीं। प्रो. एचसी वर्मा ने बताया कि दो दिन पहले बुधवार को ही प्रो. खांडेकर सोपान आश्रम आए थे और बच्चों को विज्ञान के नियम बताए थे। प्रो. खांडेकर के निधन से उन्हें जानने वाले स्तब्ध हैं। प्रो. खांडेकर का बेटा प्रवाह अभी कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी से पढ़ाई कर रहा है। उनके लौटने पर ही अंतिम संस्कार किया जाएगा। अभी उनका शव संस्थान के हेल्थ सेंटर में रखा गया है। वह आईआईटी कानपुर के पूर्व छात्र भी थे। प्रो. खांडेकर के नाम पर 8 पेटेंट हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *